भाकियू की गन्ना मूल्य घोषित करने की मांग, एडीएम को सौंपा ज्ञापन

Target Tv

Target Tv

भाकियू की गन्ना मूल्य घोषित करने की मांग, एडीएम को सौंपा ज्ञापन

BIJNOR। भाकियू प्रदर्शन करते हुए कलेक्ट्रेट पहुंची। कलेक्ट्रेट गेट पर  सरकार का पुतला दहन किया। इससे पहले मुख्यमंत्री को संबोधित एक चौदह सूत्रीय ज्ञापन गन्ना मूल्य घोषित करने की मांग सहित अन्य मांगों को लेकर ADM (एफआर) को सौंपा।

भाकियू ने ज्ञापन की भूमिका कहा है कि भारत को कृषि प्रधान देश भी कहा जाता, लेकिन वर्तमान स्थित और आने वाला भविष्य भारत के कृषकों के लिए चुनौतीपूर्ण साबित हो रहा है। विगत 36 वर्षों से भारतीय किसान यूनियन इस भारतीय स्तम्भ और वर्तमान व भविष्य में सरकार की विसंगत नीतियों का दंश झेल रहे कृषकों की आवाज को समय-समय पर धरना-प्रदर्शन व आन्दोलन के माध्यम से सरकार के दरवाजे तक दस्तक देने का काम कर रहा है। किसान परिवारों पर आर्थिक संकट की स्थिति में पालन-पोषण करना मील का पत्थर साबित हो रहा है। फसलों के भाव न मिलना बच्चों की शिक्षा पर भारी प्रभाव डाल रहे हैं। देश व प्रदेश का यह कृषक (अन्नदाता) निम्नांकित अपने अधिकारों की ओर आपका ध्यान आकृष्ट कराना चाहता है-

1- उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों से सिंचाई की मुफ्त बिजली का वायदा किया जिसकी घोषणा बजट पेश करते हुए भी की गयी, लेकिन अभी तक किसानों को सिंचाई की मुफ्त बिजली उपलब्ध नहीं करायी गयी।

2- प्रदेश सरकार निजी नलकूपों से मीटर लगवाने की प्रक्रिया को तत्काल प्रभाव से रोके और पूर्व में निजी नलकूप का कनेक्शन लेने पर 300 मीटर विद्युत लाईन विभाग की ओर से किसान को मिलती थी। इसे दोबारा से लागू किया जाए। 3-गन्ने के पेराई सत्र को शुरू हुए 2 माह से भी अधिक का समय हो गया है,

लेकिन गन्ने का भाव घोषित नहीं किया गया। जबकि पिछले चार वर्षों में मात्र 25 रुपये प्रति कुंतल बढ़ाकर किसानों को और गरीब बनाने का काम किया गया। गन्ने की खेती पर बढ़ते हुए खर्च को देखते हुए प्रदेश सरकार 500 रूपये प्रति कुन्तल गन्ने का भाव घोषित करें। गन्ने के भुगतान को डिजीटल प्रणाली भुगतान से आने वाले पेराई सत्र 2023-24 में जोड़ा जाए।

प्रदेश की कई चीनी मिलों पर आज भी करोड़ों रूपये का गन्ना भुगतान बाकी है जिसे लेकर किसान मिल परिसर में लगातार धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। किसानों का बकाया भुगतान जल्द से जल्द कराया जाए।

5- प्रदेश में सबसे विकराल समस्या किसानों के सामने छुट्टा पशुओं को लेकर है। सरकार ग्राम पंचायत स्तर पर सरकारी परती की जमीनों पर पशुशालाएं बनाएं ताकि किसानों को खेती के अलावा जान-माल की सुरक्षा भी हो सके।

6- एमएसपी गारंटी कानून बनाने के मामले में केंद्र सरकार पहल करें और कानून को अमलीजामा पहनाया जाए। देश में अलग से एक किसान आयोग का गठन किया जाए। फसलों के उचित लाभकारी मूल्य के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट और c2+50 के फार्मूले को लागू किया जाए।

7-एनजीटी के नियमों में किसानों के लिए ढील देने का काम किया जाए। कृषि में काम आने वाले यंत्रों व साधनों को लेकर विशेष योजना के अंतर्गत समय सीमा में छूट देने का प्रावधान किया जाए और कृषि में उपयोग होने वाले यंत्रों व वस्तुओं को जीएसटी मुक्त किया जाए।

8- फसलों की बुवाई के समय उर्वरक केन्द्रों पर पूर्ण मात्रा में उर्वरक उपलब्ध कराया जाए। जिससे किसानों को असुविधा का सामना न करना पड़ें। विकसित देशों की तरह खाद-बीज व कीटनाशक के क्षेत्र समेत अन्य क्षेत्रों में किसानों के नाम पर उद्योगों को दी जा रही सब्सिडी सीधे किसानों को दी जाए।

9- देश में भूमि अधिग्रहण की नीति को किसानों के अनुकूल बनाया जाए। गांवों के उजड़ने की कीमत पर उन सभी ग्रामीणों के उत्थान के लिए विशेष योजना बनें साथ ही बाजार भाव से जमीनों के मुआवजे के भुगतान की व्यवस्था की जाए।

10-लखीमपुर कांड के दोषी को कड़ी सजा दी जाए और मंत्री को बर्खास्त किया जाए। इसके अलावा किसानों से संबंधित मुकदमों का समय सीमा के भीतर निस्तारण करने की व्यवस्था की जाए।

11- देश व प्रदेश में सूखे व बाढ़ की चपेट में आए जनपदों का मैदानी सर्वे किया जाए और किसानों की नष्ट हुई फसलों का तत्काल प्रभाव से मुआवजा दिया जाए और सभी किसानों के बिजली बिल माफ किये जायें और साथ-साथ सरकारी देय सहित बैंको के ऋण भी माफ किए जायें।

12- हम सभी प्रदेश सरकार व केन्द्र सरकार से मांग करते हैं कि बीज के अधिकार को बड़ी कम्पनियों को न दिया जाए और न ही किसी बाहरी देश की कम्पनी से समझौता किया जाए।

13-जीएम मस्टर्ड (सरसों) को देश में पूर्णतः प्रतिबन्धित किया जाए, क्योंकि यह मानव जीवन सहित पर्यावरण के लिए खतरनाक परिणाम लेकर आएगी। इसके फील्ड ट्रायल को भी तत्काल प्रभाव से रोका जाए।

14-भारत सरकार बीज संरक्षण के लिए सार्वजनिक ट्रेनिंग सैन्टर खोले और वहां पर किसानों को बीजों के बारे में बताया जाए, क्योंकि स्वदेशी बीज को इससे बढ़ावा मिलेगा और जैव विविधता के अनुसार अनुकूल उत्पादन भी होगा।

Target Tv
Author: Target Tv

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स